चुकंदर के फायदे और चुकंदर के नुकसान

कन्दर(Sugar Beet) मधुर, रक्तवर्धक, पुष्टिकर,विरेचक तथा मानसिक विकार दूर करने वाला होता है। सफेद के बजाए लाल चुकन्दर ज्यादा गुणकारी रहता है। लाल चुकन्दर कब्ज, आँतों की सूजन, जिगर की बीमारियाँ, मुहाँसों तथा मासिक धर्म की बीमारियों में फायदा करता है।

> सलाद के रूप में चुकंदर का उपयोग काफी प्रचलित है। गहरे लाल बैंगनी रंग का यह कंद प्रायः शरीर में खून बढ़ाने के गुण के कारण खाया जाता है। लौह तत्व के अलावा चुकंदर में विटामिंस भी भरपूर पाए जाते हैं। इसके नियमित सेवन से विटामिन ए, बी, बी 1, बी 2, बी 6 व विटामिन सी की पूर्ति सहज ही हो जाती है।

> चुकंदर में लौह तत्व की मात्रा अधिक नहीं होती है, किंतु इससे प्राप्त होने वाला लौह तत्व उच्च गुणवत्ता का होता है, जो रक्त निर्माण के लिए विशेष महत्वपूर्ण है। यही कारण है कि चुकंदर का सेवन शरीर से अनेक हानिकारक पदार्थों को बाहर निकालने में बेहद लाभदायी है।

1. कब्ज- पेट की बड़ी समस्या है कब्ज । कब्ज होगी तो और भी बीमारिया होगी।कब्ज तथा बवासीर में चुकन्दर गुणकारी है। रोज इसके सेवन से कब्ज तथा बवासीर की तकलीफ नहीं रहती।

2. गर्भवती-

गर्भवती स्त्रियों को चुकन्दर, गाजर, टमाटर तथा सेव का रस मिलाकर पिलाने से उनके शरीर में विटामिन ए.सी.डी तथा लोहे की कमी नहीं हो पाती। यह रक्तशोधन करके शरीर को लाल सुर्ख बनाने में सहायता करता है।

3. पाचन में गुणकारी-

एक कप चुकन्दर के रस में एक चम्मच नीबू का रस मिलाकर पीने से पाचन क्रिया की अनियमितताएँ दूर होती हैं तथा उल्टी, दस्त, पेचिश, पीलिया में लाभ होता है।बच्चों एवं युवाओं को चुकंदर चबा- चबाकर खाना चाहिए। इससे दांत और मसूड़ों को मजबूती

मिलती है। यह पाचन संबंधी समस्याओं को दूर करने में सहायक होता है। इसका नियमित सेवन करने से अपाच्य की समस्या आती ही नहीं है। चुकंदर में मौजूद बेटेन आंत और पेट को साफ करता है और चुकंदर में मौजूद यह तत्व उसकी आपूर्ति करता है।

4. एनीमिया दूर करे चुकंदर- एनीमिया के लिए चुकंदर का सेवन अति लाभदायक होता है। चुकंदर में पर्याप्त मात्रा में आयरन, विटामिन और मिनरल्स होते हैं, जो खून को बढ़ाने और उसे साफ करने का काम भी करते हैं। इसलिए महिलाओं को इसे नियमित रूप से खाना चाहिए।

5. जोड़ों का दर्द- बढ़ती उम्र में जोडों के दर्द की एक बड़ी समस्या सामने आती है। खासतौर से महिलाओं में 50 की उम्र पार करते ही यह बीमारी आम हो जाती है। ऐसी स्थिति में चुकंदर का नियमित जूस पीकर इस बड़ी समस्या का समाधान किया जा सकता है। इससे दर्द में ही राहत नहीं मिलती बल्कि हड्डियां भी मजबूत बनती हैं।

6. त्वचा के लिए फायदेमंद- यदि आपको आलस महसूस हो रही हो या फिर थकान लगे तो चुकंदर का खा लीजिये। इसमें कार्बोहाइड्रेट होता है जो शरीर की एनर्जी बढाता है। सफेद चुकंदर को पानी में उबाल कर छान लें। यह पानी फोड़े, जलन और मुहांसों के लिए काफी उपयोगी होता है। खसरा और बुखार में भी त्वचा को साफ करने में इसका उपयोग किया जा सकता है।

7. रोग प्रतिरोधक- चुकंदर में अच्छी मात्रा में आइरन, विटामिन और खनिज होते हैं जो खून को बढ़ाते हैं। इससे ब्लड प्यूरीफाई होता है। चुकंदर का जूस

रोज पीने वालों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है क्योंकि इसमें एंटीऑक्सीडेंट तत्व होते हैं जो शरीर को रोगों से लड़ने की क्षमता प्रदान करते हैं।हर बिमारी से लड़ने के लिए रोग प्रतिरोधक क्षमता जरूरी है

8. डायबिटीज़ पर नियंत्रण-

जिन लोगों को डायबिटीज़ होती है वो चुकन्दर खाकर अपने मीठे की तलब मिटा सकते हैं। इसको खाने का फायदा ये होता है कि मीठे की तलब पूरी होने पर भी ये आपका ब्लड शुगर लेवल नहीं बढ़ाता क्योंकि ये ग्लाइसेमिक इंडेक्स वेजिटेबल है। इसका अर्थ ये है कि ये खून में बहुत धीरे-धीरे शुगर रिलीज़ करती है। इसमें बहुत कम कैलोरी होती है

9. थकान दूर करता है-

चुकन्दर एनर्जी को बढ़ाता है। इसके नाइट्रेट तत्व धमनियों का विस्तार करने में मदद

करते हैं जिससे कि शरीर के सभी हिस्सों में ऑक्सीजन ठीक प्रकार से पहुंच पाती है और इससे शरीर में एनर्जी बढ़ती है। इसके अलावा, चुकन्दर में आयरन बोता है जो कि स्टैमिना बढ़ाने का काम करता है।

10. दिमाग तेज़ करता है-

चुकन्दर का जूस पीने से व्यक्ति का स्टैमिना 16 प्रतिशत तक बढ़ जाता है। शरीर में

ऑक्सीजन बढ़ने से मस्तिष्क भी ठीक प्रकार से अपना काम कर पाता है। चुकन्दर खाकर आप डिमेंशिया तक में राहत पा सकते हैं।

11. हड्डियों को मजबूत करता है-

इस जूस में सिलिका की मात्रा अधिक होती है जिससे हड्डियां अधिक कैल्शियम सोख लेती हैं। इससे हड्डियां मजबूत होती हैं।वह हड्डियों के लिए बहुत फायदेमंद है ।

> चुकंदर में गुर्दे और पित्ताशय को साफ करने के प्राकृतिक गुण हैं। इसमें उपस्थित पोटेशियम शरीर को प्रतिदिन पोषण प्रदान करने में मदद करता है तो वहीं क्लोरीन गुर्दों के शोधन में मदद करता है।

> पत्तों के साथ खाने से चुकन्दर शरीर में जल्द हजम हो जाता है। चुकन्दर के पत्तों का रस गुनगुना गर्म करके कान में डालने से कान दर्द में फायदा होता है। चुकन्दर के पत्तों के रस में शहद मिलाकर दाद पर लगाने से दाद ठीक हो जाते हैं।

> गुणों से भरपूर- सोडियम पोटेशियम, फॉस्फोरस, क्लोरीन, आयोडीन, आयरन और अन्य महत्वपूर्ण विटामिन पाए जाते है इसे खाने से हिमोग्लोबिन बढ़ता है।उम्र के साथ ऊर्जा व शक्ति कम होने लगती है, चुकंदर का सेवन अधिक उम्र वालों में भी ऊर्जा का

संचार करता है। इसमें एंटीआक्सीडेंट पाए जाते हैं। जो हमेशा जवान बनाएं रखते हैं।

> वज़न कम करता है-

इस जूस में कैलोरी काफी कम होती है और एंटीऑक्सीडेंट और फाइबर अधिक होती है जिससे आप आसानी से अपना वज़न कम कर सकते हैं।

> जो लोग जिम में काफी वर्कआउट करते हैं, उनके लिए चुकंदर का रस बहुत फायदेमंद है। यह ऐसे लोगों की ऊर्जा का स्तर तुरंत सुधारता है।

> आप उच्च रक्तचाप के शिकार हैं तो इसे पीने से केवल 1 घंटे में आपका रक्तचाप सामान्य हो जाता है।

> चुकंदर का रस हाइपरटेंशन और हृदय संबंधी समस्याओं को दूर रखता है। खासतौर पर स्त्रियों के लिए यह बहुत लाभकारी होता है। पीरियड्स से संबंधित कई समस्याओं में इसका सेवन लाभप्रद होता है।

> रोजाना एक गिलास चुकंदर का जूस पीने से ब्लड में हीमोग्लोबिन की मात्रा बढ़ती है। अगर आपका हीमोग्लोबिन 10 है, तो केवल एक महीने चुकंदर का जूस पीने से ही आप इसकी 2 फीसदी मात्रा बढ़ा सकती हैं।

> चुकंदर आपके डाइजेस्टिव सिस्टम को स्मूद बनाए रखता है।

चुकंदर के नुकसान

जूस हमेशा किसी अन्य सब्जी या फल जैसे गाजर, सेब, अनार आदि के जूस में मिला कर पीना चाहिए। खाली चुकंदर का जूस पीने से वोकल कोर्ड में क्षणिक तकलीफ हो सकती है। इसका अधिक मात्रा मे इस्तेमाल भी हानिकारक हो सकता है। और इसके सेवन के बारे मे किसी चिकित्सक को अवश्य पुछे।

Leave a Comment