चिकन खाने के फायदे और चिकन खाने के नुकसान

नमस्कार दोस्तों आज हम आपको चिकन खाने के फायदे और चिकन खाने के नुकसान के बारे मे बताएंगे।

दोस्तों स्‍टोर हाउस में मिलने वाले फ्रोजन चिकन(chicken) खराब माने जाते हैं क्‍योंकि उसे ज्‍यादा दिनों तक ताजा बनाने के लिये रसायनों का प्रयोग किया जाता है। चिकन जब भी लें तो वह ताजा होना चाहिये। ताजे चिकन में प्रोटीन शामिल होता है। चिकन खाने के अनेको स्‍वास्‍थ्‍य लाभ हैं।

1-मासल्‍स बनाए

किचन को लीन मीट बोला जाता है इसका मतलब इसमें थोड़ा सा फैट और बहुत सारा प्रोटीन होता है। जिन्‍हें अपनी मसल्‍स बनाने का शौक हो उन्‍हें उबला चिकन जरुर खाना चाहिये।

2-दिल के लिये लाभदायक

इसमें कोलेस्‍ट्रॉल पाया जाता है पर इसके साथ ही इसमें नियासिन भी होता है जो कोलेस्‍ट्रॉल को कम करने में मदद करता है। हमेशा चिकन मो तेल और बटर के बिना बनाने की कोशिश करें।चिकन में विटामिन बी6 बहुत अधिक मात्रा में मौजूद होता है। ये तत्व दिल के दौरे से सुरक्षा प्रदान करता है। विटामिन बी6 होमोसिस्टाइन के स्तर को कम करता है। इस तत्व का स्तर बढ़ना दिल के दौरे का जोखिम बढ़ना ही होता है। इसके अलावा चिकन नियासिन का भी अच्छा स्रोत होता है जो कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। कोलेस्ट्रॉल दिल की बीमारियों के लिए बहुत बड़ा खतरा होता है।

3-हार्ट अटैक रिस्‍क से बचाए

इसमें विटामिन बी6 होता है जो कि होमोसिस्‍टीन का लेवल कम करता है। यदि आपमें होमोसिस्‍टीन है तो आपको हार्ट अटैक आ सकता है।

4-गठिया

चिकन में सेलीनियम नामक मिनरल पाया जाता है। यही सेलीनियम आगे चल कर गठिया रोग को पैदा करने से रोकता है।

5-बच्‍चों की लंबाई बढाए

चिकन में बहु सारा अमीनो एसिड पाया जाता है जो बच्‍चों की लंबाई बढाने में मदद करता है।

6-हड्डी मजबूत बनाए

इसमें फास्‍फोरस होता है जो कैल्‍शियम के साथ मिल कर हड्डियों को मजबूत बनाता है।हड्डियों का रखवाला

प्रोटीन के अलावा, चिकन में कैल्शियम भी उच्च मात्रा में पाया जाता है जो कि हड्डियों की स्थिति सुधारता है

7-भूख बढाए

इसमें जिंक पाया जाता है जो भूख को बढाता है। एक कटोरा चिकन सूप आपकी भूख बढा सकता है।

8-रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाए

इसमें कई प्रकार के मिनरल होते हैं जो इम्‍यून सिस्‍टम को तेज बनाता है। सर्दी जुखाम को दूर करने के लिये उबले चिकन में काली मिर्च डाल कर खाइये, आराम मिलेगा।

9-तनाव दूर करता है

चिकन में दो पोषक तत्व ट्राइप्टोफन और विटामिन बी5 ऐसे होते हैं जो आपका तनाव चुटकियों में दूर करते हैं। ये दोनों शरीर को अंदर से शांत करते हैं इसलिए जिस दिन आपको बहुत तनाव हो चिकेन ज़रूर खाएं। इसका लाजवाब स्वाद आपका तनाव दूर करने के साथ साथ आपको खुशी का अहसास भी कराएगा।

10-प्रोटीन से भरपूर

चिकन में प्रोटीन की बहुत ज़्यादा मात्रा पाई जाती हैं, जो शरीर के विकास के साथ बॉडी के मसल्स के लिए भी बहुत ज़रूरी हैं. मोटापे की चाहत रखने वालो के लिए चिकन खाना फायदेमंद होता हैं. टेस्टी खाने के साथ इससे सेहत जल्दी बनती हैं।

11-फॉस्फोरस का ख़ज़ाना

चिकन में फॉस्फोरस की बहुत ज़्यादा मात्रा पाई जाती हैं. यह दांतो की मजबूती के साथ ही हड्डियो की मजबूती को बनाए रखता हैं. इसके साथ ही यह किडनी, लिवर और नर्वस सिस्टम को ताक़त देता हैं।

12-सेलेनियम भी

चिकन में सेलेनियम की भरपूर मात्रा पाई जाती हैं. यह एक बहुत ही ज़रूरी मिनरल हैं, जो मोटापे के साथ थाइरोइड, हॉर्मोन्स, मेटाबॉलिज़म और इम्यूनिटी सिस्टम को ठीक बनाए रखने में मददगार होता हैं. बॉडी के ज़्यादातर फंक्शन इनकी ही संतुलित मात्रा पर निर्भर करते हैं।

13-आँखों के लिए

चिकन में मौज़ूद रेटनोल, अल्फा और बीटा केरोटीन, लाइकोपिन और विटामिन A की मौज़ूदगी आँखों की रोशिनी को बनाए रखने के साथ ही आँखों में होने वाले अनेक प्रकार के रोगो , जैसे आँखों का सुखापन, उनसे पानी आना, मोतियाबिंद की समस्या को दूर करता हैं।

14-चिकन का सूप

– चिकन सूप कई में कई आवश्यक पोषक तत्व विटामिन हैं जो आम सर्दी के लक्षणों के उपचार में मदद करते हैं। चिकन सूप के उच्च एंटीऑक्सीडेंट गुण जुकाम को ठीक करने की प्रक्रिया में तेजी लाते हैं। सर्वोत्तम परिणामों के लिए, जैविक सब्जियों और चिकन का उपयोग कर, घर का बना चिकन सूप तैयार करें।

15-नेचुरल –

चिकन में एक तरह का अमीनो एसिड Tryptophan पाया जाता हैं जो डाइजेशन के लिहाज़ से बहुत ही बेहतर होता हैं. डिप्रेशन, सिरदर्द आदि होने पर चिकन का सूप पीना फायदेमंद होता हैं. इससे ब्रेन से सेरोटोनिन का निर्माण होता हैं जो मूड को सही करके तनाव, चिंता आदि की समस्या को दूर करता हैं।

16-मेटाबॉलिज़म लेवल को सही रखता हैं

विटामिन बी6 बॉडी के एन्ज़ाइम्स और मेटाबॉलिक लेवल को मेनटेन करते हैं, जो ब्लड वेसल्स को हेल्दी रखते हैं. इसके साथ ही चिकन खाने से बॉडी को भरपूर मात्रा में एनर्जी मिलती हैं और एक्सट्रा कैलोरी को भी मैनेज करता हैं।

-चिकेन विटामिन बी और नाइयासिन (niacin) का एक अच्छा स्त्रोत हैं जो कैंसर से बचाता हैं।

-सेल्स के बनने में मददगार

ज़्यादातर लोगो को होंठ फटने, रूखी त्वचा, बार-बार प्यास लगना और सर्दियो में ड्राइ स्किन की समस्या हो जाती हैं. इससे बचने के लिए चिकन लिवर में मौज़ूद रिबॉफ्लेविन के लिए बहुत ही फायदेमंद होता हैं. यह स्किन की हर समस्या को दूर करके सेल्स का निर्माण करता हैं।

– इम्यूनिटी बढ़ाने वाला

सर्दी व जुकाम में राहत पहुंचाने के लिए चिकन सूप को लंबे अर्से से बतौर घरेलू नुस्खा इस्तेमाल किया जा रहा है। चिकन सूप की स्टीम यानी भाप से बंद नाक खुल जाती है और गले का कंजेस्शन (Congestion) भी साफ हो जाता है। एक अध्ययन में ये पाया गया कि चिकन सूप पीने से एक प्रकार के इम्यून सेल न्यूट्रोफिल्स के स्थानांतरण में बाधा उत्पन्न होती है यानि कहीं नहीं जाते, बल्कि शरीर में बने रहते हैं। इससे आप सामान्य इंफेक्शन होने से बच जाते हैं और शरीर की इम्यूनिटी बढ़ जाती है।

-चिकन

नॉनवेज पसंद करने वालों के बीच चिकन सबसे अधिक लोकप्रिय है। दुनियाभर के शैफ चिकन से तरह-तरह के व्यंजन बनाना पसंद करते हैं, क्योंकि नॉनवेज व्यंजन में चिकन सर्वाधिक लोकप्रिय है।

चिकन सूप -सिस्टम को करे क्लीन

वर्षा के मौसम में अशुद्ध पानी की वजह से अचानक पेट की बीमारियों में बढ़ोतरी होती देखी जाती है। इस दौरान चिकन सूप पेट में होने वाले बहुत से संक्रमणों को दूर करने में मदद करता है, साथ ही पाचनतंत्र की सफाई कर उसे दुरुस्त भी बनाता है।

गले के दर्द में राहत

अक्सर इस मौसम में ठंडा-गर्म या खट्टा खाने से गला खराब हो जाता है और टॉन्सिल्स बढ़ जाते हैं। ऐसे में चिकन सूप गले को राहत देता है और दर्द दूर करता है। इसमें मौजूद सोडियम की मात्र मुंह और गले से टॉन्सिल्स के बैक्टीरिया को हटाने में मदद करती है।

-चिकन के अलग-अलग हिस्सों में फैट व कोलेस्ट्रॉल के अलग-अलग स्तर पाए जाते हैं। ब्रेस्ट का हिस्सा सबसे अधिक लीन होता है जिसमें 28 ग्राम चिकन में 1 ग्राम फैट होता है। इसके बाद चिकन लेग होता है जिसमें 28 ग्राम चिकन में 2 ग्राम फैट होता है।

चिकन बनाने का फैसला करने से पहले ध्यान रखें कि आप उसकी चर्बी हटा लें, क्योंकि ये आपकी दिल की सेहत के लिए अच्छी नहीं होती। ये चर्बी सफेद रंग की होती है। आप चिकन खरीदते समय भी इसे निकलवा सकते हैं। चिकन को अधिक हेल्दी बनाने के लिए इसे हल्दी, धनिया पावडर और दही में मेरिनेट करें। इससे चिकन स्वादिष्ट तो बनेगा ही, साथ ही उसके पोषक तत्व भी बढ़ जाएंगे। इसके बाद आप इसे प्रेशर कूकर में बना सकते हैं जिससे कि ये नर्म होने तक पक जाएगा। आप इसको बेक भी कर सकते हैं, ये विकल्प बहुत हेल्दी माना जाता है।

-चिकन के साथ कभी न खाए मिठाई

चिकन के साथ ज्यूस या मिठाई आदि का शौक रखने वालों को भी इसके सेवन से बचना चाहिए क्योंकि इसके सेवन से पेट खराब हो सकता है

नुकसान – साइड इफेक्ट्स : इसकी अनावश्यक खुराक से कई तरह की एलर्जी, नसों में सूजन, उन्हें स्थाई क्षति पहुंचा सकती है। अचानक दर्द की शिकायत हो सकती है। सुस्ती, सीने और सिर में दर्द हो सकता है। खूनी दस्त लग सकते हैं।

अगर ऐसा चिकन खाओगे जिसमें क्लोर-टेट्रासाइक्लिन की अनावश्यक खुराक हो तो दांतों पर धब्बे, लीवर डेमेज, वोमिटिंग और पेट दर्द की शिकायत हो सकती है।

हर एक के फायदे होते है लेकिन नुकसान भी होते है ।इसलिए कभी नुकसान भी कर सकता है इसलिए किसी से पुछ भी ले कि इस बिमारी मे खा सकते है या नही बस इतना ध्यान रखे । धन्यवाद

Leave a Comment